customer ko kaise akrshit kare

बिजनेस में CUSTOMER को अपनी तरफ कैसे आकर्षित करे

Spread the love

दोस्तों आज हम देखेंगे बिजनेस में CUSTOMER को अपनी तरफ कैसे आकर्षित करे ! दोस्तों आज के युग में देखा जाये तो ! तो सभी युवा बिजनेस करना चाहते है ! नौकरी कोई भी नहीं करना चाहता ! इसलिए बिजनेस में कॉम्पिटिशन काफी बढ़ चुकी है !

हम कोनसे भी फिल्ड में बिजनेस करे हर जगह कॉम्पिटिशन बढ़ चुकी है ! इसलिए आज हम आपको बताएँगे की अगर आप बिजनेस करते है ! और आपके पास कस्टमर नहीं आते तो आपको क्या करना चाहिए इसके बारे में आपको पूरी जानकारी मिलेगी !

हम आपको ७ ऐसी स्टेटर्जी बताएँगे जिनका आपको बिजनेस में काफी फायदा होगा ! और आपके कस्टमर बढ़ने लगेंगे ! तो चलिए दोस्तों देखते है !

1 . अपने बिजनेस की वेबसाइट बनाइये

bijnes ki website
business website

दोस्तों अगर आप जो भी बिजनेस कर रहे है ! उसकी आपको वेबसाइट बनानी है ! ताकि लोग आपको ढूंढ़ते हुवे आ जाये ! आपको लोगो को न ढूंढ़ना पड़े ! यही है एक थीम ० डॉलर मार्केटिंग ! अपने वेबसाइट का एक नीट & क्लीन होम पेज बनाया जाये !

जिसका एक सुन्दर लगभग व्हाइट बैग्राउंड का एक बेस कलर हो ! जिसमे जब कस्टमर पहुँच जाता है आपकी वेबसाइट पर ! तो उसको ढूंढ़ने में समय न लगे उसको वह वेबसाइट आसान लगे ! कॉल तो ऐक्शन बेस वेबसाइट बनाइये ! जैसे की शॉप नाउ , कॉल नाउ ! ताकि आपके वेबसाइट पर आ करके कस्टमर कुछ करे !

कॉल तो ऐक्शन मतलब कस्टमर देखतेही कॉल करे या प्रोडक्ट ख़रीदे ! कस्टमर को हिडेन कमांड दो ! और अपने वेबसाइट पर हमेशा सल्यूशन पे फोकस करो ! क्या होता है दोस्तों ! पूरा करियर बिजनेस को बर्बाद कर देने वाला करियर क्या है !

अगर आप प्रोडक्ट का इंट्रोडक्शन और प्रोडक्ट का डिस्क्रिप्शन वेस्ट कर दोगे ! तो जिंदगी में कोई कस्टमर आपसे मॉल नहीं ख़रीदेगा ! प्रोडक्ट इंट्रोडक्शन और डिस्क्रिप्शन हमेशा लिमिटेड रखिये ! कुछ ऐसा करे की सिंगल क्लीक नेविगेशन पर वो आ जाये !

जैसे समुद्र में जाकर जहाज कभी कभी खो जाता है ! इतना दूर की दीखता नहीं है ! क्षितिज बोलते है उसे ! आपके वेबसाइट पर ऐसा न लगे ! एक ही नेविगेशन क्लीक के अंदर उसे सब मिल जाये चैट , इ मेल , प्रोडक्ट ! विज़िटर के लिए आसान क्र दो अपनी वेबसाइट !

और वेबसाइट को हमेशा अपडेट करते रहो ! तो दोस्तों आप अपने बिजनेस की वेबसाइट बनाकर आपके बिजनेस को डिजिटल बना सकते है ! इससे आपके बिजनेस पर काफी पॉजिटिव इफेक्ट पड़ेगा !

2 . कस्टमर की पसंद पहचानिये

happy coustomer
happy customer

दोस्तों अगर हम बिजनेस करते है तो हमे कस्टमर का पूरा ध्यान रखना होता है ! वह हमारे प्रोडक्ट से खुश है या नहीं ! देखो की कस्टमर को खरीदते वक्त उसे क्या तकलीफे आती थी ! उसके पुराने बाइंग बिहेवियर को देखो ! देखो के उसके टच पॉइंट्स क्या है !

कैसे वह सोशल मिडिया से आपके पास आ रहा है ! उस टच पॉइंट को स्टडी करो ! उसके एग्जिस्टिंग बाइंग प्रोसेस में जो गैप्स है ! जिसे उसको तकलीफे आ रही थी ! हो सकता है आपको प्रोडक्ट में चेंज लाना पड़े !

जिससे वह तुरंत खरीद ले 0 डॉलर मार्केटिंग हो गयी आपकी ! समजो अगर आपका रेस्टोरेंट है और कस्टमर खाना खाने अत है ! तो पहले वह दाल भी ऑर्डर करता था , शाही पनीर भी ऑर्डर करता था , वेज पुलाव भी आर्डर करता था ! उससे क्या होता था उसका बिल बढ़ जाता था ! आपने क्या किया उसकी मिक्स थाली बनाकर दी !

उसके buying प्रोसेस की तकलीफ को काम कर दिया ! पहले बिल अत था ८०० रुपये अब वह २५० रुपये में खाता है ! वह तुरंत आपसे माल लेगा और हर बार लेगा ! आपने क्या किया उसके buying प्रोसेस को देखा उसको क्या तकलीफ़े आ रही थी !

आप हमेशा ये चेक करते रहो की आपके वेबसाइट के पेज पर ! हाइएस्ट ट्रैफिक पेज पर आ रहा है लोवेस्ट ट्रैफिक कोनसे पेज पर आ रहा है ! चेक करो की किस कॉन्टेंट पर कस्टमर रिटेन होता है ! यानि की कोनसे आर्टिकल वह कस्टमर देर तक पढ़ता है आपकी वेबसाइट पर !

कोनसे पेज को शियर क्र रहा है ! कोनसे विडिओ देखता है आपके वेबसाइट पर ! कोनसा प्रोडक्ट ज्यादा बिकता है ! कोनसा प्रोडक्ट काम बिकता है ! ये भी चेक करो की अहा पे आपका बाउंस रेट ज्यादा है ! किधर आपको आपका कस्टमर आपको छोड़ के चला जाता है !

3 . कस्टमर को वो content दो जो वह चाहता है

content for customer
content marketing

दोस्तों इसका मतलब यह है की ! वह content दे दो जो कस्टमर आपके प्रोडक्ट को यूज करते यूज करते समय जिन तकलीफो ! का सामना करने वाला है वो पहले ही उसे दे दो ! कॉन्टेंट कुछ ऐसा बनाओ की १० x करदो कॉन्टेंट को ! उसको ऑथेंटिक करो रेलेवेंट करो !

जबरदस्त होना चाहिए टू द पॉइंट होना चाहिए कॉन्टेंट ! कुछ लम्बा चौड़ा मत लिखो कुछ बड़े बड़े आर्टिकल मत लिखो ! कोई बड़े बड़े आर्टिकल मत लिखो ! एक इन्फो ग्राफिक एक छोटासा ग्राफिक जैसे ही इमेज देखेगा उसकी प्रॉब्लम सॉल्व हो जाएगी !

फ्री कॉन्टेंट दो ! अपने कॉन्टेंट में प्रमोशनल ऑफर मत डालो ! प्रोडक्ट फीचर मत डालो ! अगर आपका रेस्टोरेंट है तो कस्टमर को रेस्पी बेस्ड कॉन्टेंट दो !

अगर आप डॉक्टर है तो पेशंट को कैसे अपने हेल्थ में प्रिवेंशन बेस्ड कॉन्टेंट दो ! की कैसे उसकी हेल्थ अच्छी रहेगी ! वह मत दो के भाई आओ मेरे से टेस्ट करा लो ! तुम्हे २० % डिस्काउंट दे रहा हु ! उससे कस्टमर चला जाता है !

अगर आप लॉयर है तो कस्टमर अधिकारों के बेस्ड पर कॉन्टेंट उसे बनाकर दो ! अपनी सोशल मीडिया की प्रेजेंस को बढ़ाओ ! कॉन्टेंट सबकुछ होता है बिजनेस में ! एक अच्छा कॉन्टेंट बना के दो ! लोगो को अलाव करो की वह आके साथ जुड़ जाये ! बिजनेस में CUSTOMER को अपनी तरफ कैसे आकर्षित करे

4 . कस्टमर को ढूंढ़ने मत जाओ कस्टमर आपको ढूंढ़ता हुवा आएगा

selling customer

दोस्तों इसका मतलब है की ! आउटबाउन्ड मार्केटिंग बंद कर दो ! कस्टमर के पीछे पीछे मत जाओ ! कस्टमर को अपने पीछे पीछे लेकर आओ ! बड़ा हल्का सा फरक है इसमें ! पहले ९० % लोग आउटबाउन्ड पे पैसा खर्च करते थे !

१० % इनबाउन्ड पर करते थे ! अब ट्रैफिक चेन्ज हो रहा हो मॉडल चेंज हो रहा है ! अब लोग ९० % इनबाउंड पर करते है और १० % आउटबाउंड पर करते है ! आउटबाउंड क्या होता है ! जो ट्रेडिशनल मैथर्डस है !

जैसे की यहाँ पर आप कस्टमर को ढूंढ़ने जा रहे हो ! ट्रेड शो में जाते हो ! सेमिनार में जाते हो ! कोल्ड कॉलिंग करते हो ! ई मेल करते हो ! टीवी पर ऐड करते हो ! इसका roi कम है ! क्या आप जानते यह कैसा होता है आउटबाउंड !

ऑउटडाउन ऐसा है जैसे आप खेत में सुई ढूंढ रहे हो ! यानि की आपने अख़बार में ऐड कर दी इतने बड़े खर्ट में एक कस्टमर ढूंढ़ने निकले थे ! आपको खेत में सुई नहीं ढूंढ़नी है ! इनबाउंड मतलब ऐसा कुछ करे जिससे सुई अपने आप चलके मेरे पास आ जाये !

कस्टमर अपने आप चलके आ जाये ! दोस्तों देखा जाये तो ज्यादा तर मॉडल चेंज हो गए है ! कॉन्टेंट मार्कर्टिंग , ब्लॉगिंग , सोशल मीडिया ये सरे तरीके है जिससे आप इनबाउंड करते हो ! अब इनबाउंड मार्केटिंग बोहत पावरफुल है !

क्योकि यह कस्टमर को एम्पॉवर करता है ! की वह आपको ढूंढ़ता हुवा आपके पास आ जाये ! तो सबसे पहले कस्टमर को करो अट्रैक्ट ! उसके बाद करो एंगेज ! उसके बाद करो डी लाइट ! ताकि आपके पास कस्टमर आये आप कस्टमर के पास न जाये !

5 . डेटा को संभालना शुरू करो

collect your database
collect your database

दोस्तों अगर आप पैसा नहीं खर्च करना चाहते ! तो डेटा को संभालना शुरू करो ! मुकेश अम्बानी भी कह चुके है ! डेटा इज द न्यू ऑक्सीजन ! डेटा दो प्रकार का है ! एक इंटरनेट का डेटा और जिसमे आपके पास सारी इन्फॉर्मेशन होती है !

कस्टमर के फोन नंबर , कस्टमर के इ मेल , उन्होंने प्रोडक्ट कब ख़रीदा ! इसकेलिए सॉफ्टवेर लगाओ ! इसके बिना चल नहीं सकता ! जो भी आपका रेलेवेंट डेटा बेस है ! उसे इखट्टा करना शुरू करो ! अब आपके मन में आया होगा की डेटा कैसे मिलता है !

डेटा पता है कैसे मिलता है ! आपको अलग अलग सोर्सेस आप खुद थे ! आपने ध्यान नहीं दिया ! किसी ने आपको कॉल किया वह डेटा है ! हर डेटा क CRM में डालो ! बोहत सस्ता पड़ता है CRM ! इसमें आप सारा डेटा कलेक्ट करके रख सकते है !

अगर कोई पूरानी सेल्स हुई है वह भी आपका डेटा है ! कोई इन्क्वाइरी फॉर्म पर कुछ भर दिया अपने बारे में वह भी एक डेटा है ! उस डेटा का संभल कर रखो ! उसे CRM में लेकर आओ ! कोई इवेंट में गए वह से कोई बिजनेस कार्ड कोई इन्फॉर्मेशन लेकर आये !

उसे भी अपने CRM में डालो ! किसी ने फीड बैक दिया आपको वह भी आपका डेटा है ! एम्पायर करो अपनी टीम को की जो डेटा इखट्टा हो गया है ! १००० , २००० कस्टमर का जितने भी है ! उनके साथ में रिलेशनशिप बिल्ड करे !

उनको फ़ॉलोअप करे उनको कान्सेस्ट्नट पिच दे ! ऐसा करने से क्या होगा ! की ज्यादा से ज्यादा कस्टमर आपके साथ जुड़ेंगे ! और आपका बिजनेस ग्रोथ करेगा ! बिजनेस में CUSTOMER को अपनी तरफ कैसे आकर्षित करे

6 . आपने जो डेटा इखट्टा किया है उसे नया रूप दो

new database
new database

दोस्तों अब तक आपने जो डेटा इखट्टा किया है ! तो उस डेटा को नया जीवन भी देते जाओ ! क्योकि वह डेटा पुराना होता जायेगा उसे नया जीवन दो ! अब आप यह सोच रहे होंगे की नया जीवन कैसे दे ! तो फॉलो अप करो एक नए एजिंग लिड के साथ !

अब एजिंग लिड मतलब जिसे ६ महीने हो गए ३ महीने हो गए ! ऐसी लिड के साथ रिलेशनशिप बिल्ड करो ! इसका तरीका क्या है ! देखिये एक बात है !

अगर आपने करेक्टली यह कर लिया तो आपको इससे बोहत फायदा मिलेगा ! पुराने कस्टमर के साथ धंदा करना ७ गुना सस्ता पड़ता है ! नए कस्टमर के साथ हांडा करना ७ गुना महंगा पड़ता है ! लेकिन इसमें कुछ ऐसी लिड्स होगी जो बिलकुल अनक्वॉलिफाइड है !

इंकम्पेटेबल है ! उसपर समय मत लगाओ ! आपको करना क्या है ! अपने रिम को थोड़ा समजाओ थोड़ा बताओ ! के कस्टमर को फोन जब करोगे ! मतलब पुराने डेटा को ! तो सेल्स करने के लिए मत कहिये रिलेशनशिप बनाओ उसके साथ ! अपने पुराने डेटा के साथ !

अगर आप उसे कॉन्टैक्ट करते ही फिरसे सारि बाते पूछने लगोगे ! की अरे पिछली बार आपने क्या लिया था ! क्या लिया था ! आपको ऐसे नहीं करना है ! CRM में पहले इन्फॉर्मेटशन देखो ! कस्टमर को एक ही बात चार लोगो से दोबारा दोबारा करने से वह बहुत चीड़ जाता है !

उससे पहले याद रखो उसने पहले कॉन्टैक्ट क्यों लूज किया था ! वह क्या कारण था की वह दोबारा नहीं आया ! इस तरह की बाते करो उससे रिलेशनशिप बिल्ड करो ! सबसे बड़ा रीजन क्या है ! कस्टमर दोबारा न जुड़ने का !

क्योकि आपने पहले ही सीधा उसे बोलै की भाई मेरा माल खरीद लो ! ये नहीं होना चाहिए अगर ७ मिनिट का कॉल है तो उसमे सिर्फ २ मिनिट सेल्लिंग की बात हिनी चाहिए ! बाकि ५ मिनिट अपनी रिलेशनशिप बिल्ड करो !

7 . स्टोरी टेलिंग फॉर रीकॉल

story telling for recall

दोस्तों एक बात याद रखियेगा ! जितनी बड़ी एडवर्टिजमेंट देखि आज तक कोनसी पको याद रह गयी ! जिसने अपने प्रोडक्ट के बारे में की वह याद रहा गयी ! या फिर जिसकी कहानी बड़ी इमोशनल और जबरदस्त स्टोरी के माध्यम इ आपको बताई गई !

दोस्तों आपको बता दे की तोरी कस्टमर को याद रह जाती है ! हर बात में स्टोरी डालो ! सेल्स की पिच में स्टोरी डालो ! वेबसाइट में एक छोटीसी स्टोरी दिखनी चाहिए ! आपके वीडिओज़ में स्टोरी दिखनी चाहिए ! आपके हर ब्रांड कैम्पेन में जिसमे आपका पैसा नहीं लगता ! कहानी के थ्रू कम्युनिकेट करो ! तो आपका कस्टमर बनेगा रिपीट कस्टमर !

पहले होता है कस्टमर ! उसके बाद होता है रिपीट कस्टमर ! रिपीट कस्टमर के बाद बनता है लॉयल कस्टमर ! लॉयल कस्टमर के बाद बनता है प्रमोटर !

और प्रमोटर आगे चलके बनता है एडवोकेट ! ये बड़े स्ट्रैटर्जिक ५ स्टेप्स है ! अपनी मार्केटिंग स्ट्रैटर्जी में ब्लोग्स में , आर्टिकल में ! कहानी के रूप में बताइये ! पर कहानी होनी कैसी चाहिए !

तो दोस्तों कहानी इंटरटेनिंग होनी चाहिए ! इमोशनल होनी चाहिए ! एजुकेशनल होनी चाहिए ! एक ऐसी कहानी बताइये जो की यूनिवर्सली एक्सेप्टेबल हो !

जिसे सुनकर लोग आपके साथ जुड़ना चाहे ! एक कम्युनिटी की तारीफ किरिये ! कम्युनिटी आपको फैला देगा ! मैक्सिमम लोग इमोशनल स्टोरी से कनेक्ट होते है !

तो दोस्तों ये थे ७ स्टेटर्जी जो आपको आपका बिजनेस ग्रो करने में आपकी मदत करेंगे !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *